Little Fly so sprightly in Hindi ( ज़िंदा-दिल छोटी मक्खी की कहानी )

Kornei Chukovsky

Reading Level: 3-5



Book Description

Read and download free Hindi children's book, Little Fly so sprightly. The Hindi text of the story is as follows: एक छोटी मक्खी जो ज़िंदा-दिल थी और उसने सुन्दर लिबास पहना हुआ था। उसका सुनहरी पेट बहुत चमक रहा था। वो खेतों में उड़ती जा रही थी जब उसने वहां एक बिलकुल नया पैसा देखा। उसने टाउन बाजार जाने का फैसला लिया और वहां से चाय बनाने का बर्तन खरीदा। तब छोटी मक्खी ने कहा, “प्यारे कॉकरोचों मेरे साथ चलो मैं आपको चाय पर निमंत्रण देती हूँ।” मक्खी की यह बात सुनकर सभी काकरोच फर्श से चाय के मेज की तरफ दौड़े । घास के टिड्डे ने तीन तीन गिलास चाय के पीए। सेंटीपीड्स ने अपने जगों में दूध डाल कर कहा, “छोटी मक्खी आज तेरा महान दिन है।” खटमलों ने छोटी मक्खी को सोने के फीतों वाले जूते उपहार में दिए जिन्हें देखकर मक्खी हैरान थी वो सोच रही थी ऐसे जूते दुकानों पे कभी कभार मिलते है। दादी मधुमक्खी ने जो उसके पास था, यानि की शहद, खूबसूरत कपड़े पहने छोटी मक्खी को दे दिया। वह बोली “प्यारे कीटो, तितलियों आप कितने सुन्दर लग रहे हो कृपया इस शहद के छत्ते से अपने ब्रैड पे और घी में शहद मिलाकर लगा लो यह बहुत स्वाद होगा।” अचानक एक मकड़ी वहां दौड़ी आई, उसने अपने बुने जाल में इस छोटी मक्खी को पकड़ लिया । वो हमारी छोटी मक्खी को आंख की एक झपक में मार सकता है। मक्खी को स्पाइडर मैन मतलब मकड़ी ने बंदी बना लिया। तब हमारी छोटी मक्खी ने कहा, “आह मेरे प्रिय मित्रों मैं खतरे में हूँ, इस स्पाइडर मैन को रोको या इसे खत्म कर दो यह अजनबी बिना बुलाए कहां से आ गया है। आपने मेरी चाय पी है, अब आपको मेरी मदद करनी चाहिए। मेरे प्रिय मित्रो मुझे डर है कि मेरा अंत समय नज़दीक आ गया है।” छोटी बीटल ने जब यह घटना देखी तो वो डर से सहम कर पृथ्वी पर चक्कर खाकर गिर गई। सभी मेहमान डर से भाग कर जमीन की दरारों मे जाकर छुप गए। काकरोच भी दरवाजे के नीचे छुप गए। सभी चींटियाँ इधर उधर चली गई। टिड्डे भी खटिया के नीचे छुप गए। अब वो एक दूसरे से लड़ाई नहीं कर रहे थे। सभी पीछे भाग गए कोई भी कीट अपनी बिल में स्पाइडर मैन के डर से हिल नहीं रहा था। उसने कहा “तुम्हारा दिल करे आंहे भर, या चिल्ला, छोटी ज़िंदा-दिल मक्खी !” घास का टिड्डा झाड़ियों मे से होता हुआ डर कर पुल की तरफ भाग रहा था जैसे मनुष्य छलांग मारकर भागता है। तब वो कूद कर उपर चला गया। कितना दुष्ट स्पाइडर मैन मतलब मकड़ी है जिसने हमारी छोटी मक्खी के हाथ पाँव बांध दिए है। अब वो छोटी मक्खी के पास बैठा है, छोटी मक्खी के नम्र दिल में मौत का डर सता रहा है। और वो डर से बेहोश हो रही है। उसका जीवन जो उसके शरीर में खून है वो बदमाश चूस रहा है। उसे जोर से चिल्लाना चाहिये कि उसे शैतान ने पकड़ लिया है। किसी ने भी उस की दशा पे ध्यान नहीं दिया, न ही स्पाइडर मैन मतलब मकड़ी ने कुछ कहा क्यों कि वो खुश था कि मैंने इसे पकड़ लिया है। अचानक आसमान से एक मच्छर झपट मार कर वहां आ जाता है। उसके मजबूत बहादुर हाथों में एक रोशनी तलवार है वो युद्ध के लिए तैयार है। उसने कहा, “वो ज़ालिम, जंगली, कातिल कहां हैं? मैं उससे डरता नहीं हूँ।” मच्छर उसपे हमला करके अपनी तलवार से उसे काट देता है। वो उस दानव का गला काट देता है। वो स्पाइडर मैन मर जाता है। तब मच्छर छोटी मक्खी को खिड़की की तरफ हाथ पकड़ कर ले जाता है। वहां छोटी मक्खी खुले आसमान को देखती है और चैन से सांस लेती है। तब उसने मक्खी से कहा, “मैं मच्छर हूँ जिसने तुझे स्पाइडर मैन के जाल से मुक्त किया है। उस शैतान स्पाइडर मैन को मैंने मार दिया है। तुम मुझे मेरे जीवन से भी प्यारी है इस लिए तुम मेरी पत्नी बन जाओ।” जीव जंतु जो छोटी मक्खी के मेहमान थे अपनी छुपनगाहों से बाहर निकले वो ऊँची आवाज में खुशी से चिल्ला रहे थे। “मच्छर ने कितना बहादुरी का काम किया है वो जीत गया है।” जल्दी ही जुगनू और सेंटीपीड वहां आए वो कह रहे थे कि सभी संगीतकारों को बता दो कि उन सभी का हमारी मित्र की शादी की नाच पार्टी में स्वागत है। सभी संगीतकार अपने संगीत के यंत्र ले आए, ढोल की आवाज ने सभी कीटो को नाचने लगा दिया। बूम, बूम, बूम, नाचो सभी नाचों नाच कर खुशी मनाओ। इस नाच पार्टी की अगवाई दूल्हा खुद कर रहा था। तब मेबग ऊँची एड़ी के बूट पहनकर वहां आ गई लेड़ीबग, करैब और बड़े सींगों वाले बीटल वहां पहुंच कर संगीत पे मटक रहे थे, वो किसानों की तरह सेहतमंद थे गंदे थे लेकिन अमीर थे। उन्होने नाच नाच कर अपनी टोपियां हवा में उछाली, तब वो गोल दायरा बनाकर तितलियों के हाथ पकड़कर टा-रा-रा, टा-रा-रा का संगीत बजाकर उनके साथ नाचने गाने लगे। जानवरों का हुजूम गीत गाता नाच कर रहा था। छोटे लोग इस दृष्य का आनंद ले रहे थे। तब छोटी मक्खी ने उस नौजवान बहादुर मच्छर को अपने जीवन साथी के रूप में चुना। चींटियां भी अपने समूहों में नाच रही थी, वो पृथ्वी पे अपनी एड़ी पटक कर धूम मचा रही थी। चाची चींटी भी फुदक फुदक कर नाच रही थी। एक छोटा कीट अपनी आंखें मटका रहा था वो दीमक से कह रहा था कि आप कितने अच्छे हो। काकरोच के नये बूट चीखें मार कर टक टक कर रहे है। उसके तलवे का अगला और पिछला हिस्सा अलग अलग खड़क रहा था। छोटे कीटो का समूह खुशी में इधर उधर झूम रहा था। वो दिन निकलने तक गीत गाएगे। छोटी ज़िंदा-दिल मक्खी जिसने सुंदर कपड़े पहने है उसके लिए आज का दिन एक महान दिन है।







Log in to write your own review



Reviews

No book reviews as yet.


Log in to write your comments



Comments

No comments as yet.


Log in to write your story

Stories

No stories as yet.


Log in to submit your image



Drawings and Images

These are the images or drawings related to the book sent by our users. If you would like to submit drawings and images, use the form above.


No images or books as yet.


No sheets as yet.